धाम यात्रा

कैसे पहुंचे केदारनाथ धाम?

Kedarnath at 11755 ft

Kedarnath at 11755 ft

Img Src

केदारनाथ भारत के उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित पवित्र शहर और उत्तराखंड के चार धामों में से एक है। केदारनाथ, केदारनाथ घाटी में 3584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह एक हिंदू मंदिर है जो भगवान शिव को समर्पित है। मंदाकिनी नदी के पास गढ़वाल हिमालय श्रृंखला पर स्थित, केदारनाथ भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित है।

जाने कैसे पहुंचे केदारनाथ धाम

केदारनाथ उत्तराखंड के हिमालय क्षेत्र में 3584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है | केदारनाथ, रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है | यह ऋषिकेश से लगभग 223 किमी और दिल्ली से 458 किमी दूर है |

गूगल मैप पर केदारनाथ धाम के निर्देशांक: 30.735491,79.067059

केदारनाथ 3586 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है और यहाँ से ट्रेक, दांडी, कंडी या हेलीकाप्टर द्वारा पहुँचा जा सकता है। केदारनाथ का ट्रेक रूट लगभग 18 किलोमीटर लंबा है।

केदारनाथ धाम कैसे पहुंचे?

  • सड़क मार्ग से: केदारनाथ, चंडीगढ़ (387 किमी), दिल्ली (458 किमी), नागपुर (1421 किमी), बैंगलोर (2484 किमी) या ऋषिकेश (189 किमी) जैसे प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप हरिद्वार , कोटद्वार या देहरादून तक रेल यात्रा का विकल्प चुन सकते हैं या देहरादून से पर हवाई मार्ग भी चुन सकते है।

दिल्ली से केदारनाथ (सड़क मार्ग द्वारा): दिल्ली से लगभग हर आधे घंटे में हरिद्वार के लिए बसें जाती हैं। सड़क मार्ग से केदारनाथ पहुँचने में लगभग 8 घंटे लगते हैं। इसके अलावा आप ट्रेन से हरिद्वार तक जा सकते हैं, इसमें 4-6 घंटे लगेंगे। हरिद्वार से आप सीधे केदारनाथ जा सकते हैं लेकिन आपको कम से कम एक दिन वहाँ रुकना पड़ सकता है । यदि आप 5-6 व्यक्तियों का समूह के रूप में यात्रा रहे है तो आप एक जीप किराए पर लेने के बारे में सोच सकते हैं। जीप से आप 9-10 घंटे में गौरीकुंड पहुंच सकते हैं। कृपया ध्यान दें कि ऋषिकेश से गौरीकुंड तक रात 8 बजे से सुबह 4 बजे तक यात्रा मार्ग बंद रहते है |

हरिद्वार से केदारनाथ (सड़क मार्ग से): हरिद्वार से प्रतिदिन सुबह गौरीकुंड के लिए बस सेवा शुरू हो जाती है। हरिद्वार रेलवे स्टेशन के सामने GMOA (गढ़वाल मंडल ओनर्स एसोसिएशन) के कार्यालय से बस की एडवांस बुकिंग की जा सकती है। भूस्खलन जैसी स्थिति न होने पर गौरीकुंड तक पहुंचने में लगभग एक पूरा दिन लगता है। बस से यात्रा करने पर आनंद की प्राप्ति होती है क्योंकि यात्रा के दौरान आपको नदियाँ, हरे-भरे पहाड़ देखने को मिलेगे जो की मन को तृप्त आनंद की अनुभूति देते है |

  • ट्रेन द्वारा: केदारनाथ के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश (215 किलोमीटर), हरिद्वार (241 किलोमीटर), देहरादून (257 किलोमीटर) और कोटद्वार (246 किलोमीटर)। ऋषिकेश फास्ट ट्रेनों से नहीं जुड़ा है और कोटद्वार में ट्रेनों की संख्या बहुत कम है। इस प्रकार यदि आप ट्रेन से केदारनाथ जा रहे हैं तो हरिद्वार सबसे अच्छे रेलवे स्टेशन के रूप में कार्य करता है। हरिद्वार भारत के सभी भागों से कई ट्रेनों द्वारा जुड़ा हुआ है।
  • हवाई मार्ग से: केदारनाथ से निकटतम हवाई अड्डा देहरादून के पास जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो केदारनाथ से लगभग 239 किमी दूर है। यह हवाई अड्डा ऋषिकेश (लगभग 16 किमी) के करीब है और ऋषिकेश तक पहुँचने में लगभग 20-30 मिनट लगते हैं। वहाँ से आपको जोशीमठ पहुँचने के लिए टैक्सी बुक करनी होगी या बस लेनी होगी। किंगफिशर एयरलाइंस देहरादून हवाई अड्डे को नई दिल्ली के साथ अपनी किंगफिशर रेड सेवा के माध्यम से जोडती है | नई दिल्ली हवाई अड्डे से रात 11:35 और 03:20 बजे देहरादून के लिए हवाई उड़ाने चलती है जो की क्रमशः 12:30 बजे और शाम 04:20 बजे देहरादून पहुंचती है।

गूगल मैप पर केदारनाथ धाम की स्थिति

हेलीकाप्टर द्वारा केदारनाथ यात्रा

उत्तराखंड के विभिन्न स्थानों से संचालित होने वाली हेलीकाप्टर सेवाओं के माध्यम से केदारनाथ बहुत आसानी से पहुंचा जा सकता है। कुछ प्रमुख स्थान जहाँ से आप केदारनाथ के लिए हेलीकाप्टर सेवा प्राप्त कर सकते हैं: देहरादून, गुप्तकाशी, सिरसी और फाटा हैं।

टैक्सी या निजी वाहन से केदारनाथ यात्रा

यदि आप अपने निजी वाहन से यात्रा करने का विचार बना रहे है तो यह सुनिश्चित कर ले कि वहां का “ग्राउंड क्लीयरेंस” (Ground Clearance) हो क्यूंकि पूरे यात्रा के दौरान सड़क मार्ग में चट्टानें हैं जिससे की वाहन को नुकसान हो सकता है । गौरीकुंड से ठीक पहले दो पार्किंग स्थल हैं (गौरीकुंड से 100 मीटर और 500 मीटर पहले )। निजी वाहनों के लिए जगह मिलना कठिन है, लेकिन कार्यवाहकों से विनम्र निवेदन करने के बाद प्रबंध किया जा सकता है।

गेट सिस्टम: केदारनाथ से पहले

गौरीकुंड से महज 5 किमी नीचे सोनप्रयाग में गौरीकुंड तक केवल एक दिशा में वाहनों को ले जाने के लिए फाटक (फाटक) है। इसका उपयोग यात्रा के दौरान ट्रैफिक जैम से निपटने के लिए जाता है लेकिन इस से यात्रा में अतिरिक्त 1-1.5 घंटे का समय लग जाता है । यात्रियों को यह सलाह दी जाती है कि सोनप्रयाग में अपना वाहन पार्क करें और गौरीकुंड तक सार्वजनिक परिवाहन से सफ़र करे |

गौरीकुंड में यातायात की सुविधा

गौरीकुंड से एक पक्के रास्ते के माध्यम से ही केदारनाथ तक पंहुचा जा सकता है | यहाँ पर घोड़ो, डंडी, पोनी की व्यवस्था भी है जो की किराये पर उपलब्ध होते है | गौरीकुंड ऋषिकेश, हरिद्वार, देहरादून और गढ़वाल के अन्य महत्वपूर्ण हिल स्टेशनों और उत्तरांचल में कुमाऊँ क्षेत्रों से सड़क द्वारा जुड़ा हुआ है। । घोड़ों, डंडी और पोनी के लिए ऑनलाइन बुकिंग नहीं रखी गयी है, इनकी दरें सरकार द्वारा तय की जाती है । आप वहां पहुंचकर ही इनकी बुकिंग कर सकते है |

केदारनाथ धाम पहुँचने के लिए यात्रा मार्ग

यात्रा मार्ग 1: ऋषिकेश से केदारनाथ (223 किमी)

ऋषिकेश → देवप्रयाग (70 किलोमीटर) → श्रीनगर (35 किलोमीटर) → रुद्रप्रयाग (34 किलोमीटर) → तिलवाड़ा (9 किलोमीटर) → अगस्त्यमुनि (10 किलोमीटर) → कुंड (15 किलोमीटर) → गुप्तकाशी (5 किलोमीटर) → फाटा (11 किलोमीटर) → रामपुर (9 किलोमीटर) → सोनप्रयाग (3 किलोमीटर) → गौरीकुंड (5 किलोमीटर) → रामबारा (7 किलोमीटर) → लिनचौली (4 किलोमीटर) → केदारनाथ (3 किलोमीटर)।

केदारनाथ धाम पहुचने के लिए दूरी चार्ट

  • दिल्ली से केदारनाथ: 458 किमी
  • ऋषिकेश से केदारनाथ: 223 किलोमीटर
  • चंडीगढ़ से केदारनाथ: 387 किमी
  • नागपुर से केदारनाथ: 1421 किमी
  • बैंगलोर से केदारनाथ: 2484 किमी

अगर आप कोई प्रश्न है तो ये पोस्ट करें!

यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो आप अपनी टिप्पणी कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हमारी टीम आपको जवाब / समाधान प्रदान करने का प्रयास करेगी

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of